विटामिन्स-प्रकार, महत्व, प्रमुख स्रोत, रोग Types Of Vitamins In Hindi GK

Types Of Vitamins In Hindi GK- इस लेख में जानेगे विटामिन्स के प्रकार, महत्व, प्रमुख स्रोत, रोग के बारे में.
विटामिन्स- इसके प्रकार, महत्व, प्रमुख स्रोत, रोग types of vitamins hindi

विटामिन्स- इसके प्रकार, महत्व, प्रमुख स्रोत, रोग Types Of Vitamins In Hindi GK


विटामिन (vitamin) का शाब्दिक अर्थ
Vita= Life (जीवन)
Amine= Essential (आवश्यक)


ऐसा कार्बनिक पदार्थ जो जीवन के लिए आवश्यक होते है.विटामिन में कार्बन होता है, इसलिए उन्हें "कार्बनिक पदार्थ" के रूप में वर्णित किया जाता है। दैनिक जीवन में जंतुओं के शरीर के लिए सूक्ष्म मात्रा में विटामिन्स की आवश्यकता होती है. ये ऊर्जा प्रदान नहीँ करते हैँ.विटामिन की खोज 1911 ई. में एफ.जी. हाफकिन्स और बताया कि स्वस्थ शरीर के लिए भोजन में अन्य पदार्थों के अतिरिक्त इन पदार्थों की भी सूक्ष्म मात्रा में होना आवश्यक है.इस खोज के लिए 1929 में नॉबेल पुरुस्कार से सम्मानित किया गया है. विटामिन का नाम कासिमिर फंक (Casimir Funk) ने 1911 दिया था.

विटामिन शरीर में नही बनते है. इन्हें केवल भोजन से प्राप्त किया जा सकता है. इसके कुछ अपवाद है जैसे विटामिन D और K. Vitamin "D" सूर्य के प्रकाश से शरीर में बनते है. Vitamin "K" आंत्र में उपस्थित ‘कोलोन’ नामक बैक्टीरिया बनाता है। कुल 13 विटामिन्स पाये जाते हैं।
विटामिनों की खोज और रासायिनक नाम

1909 विटामिन A रेटिनॉल/कैरोटिन
1912 विटामिन B1 थायमीन
1912 विटामिन C एस्कॉर्बिक
1918 विटामिन D केल्सीफैरॉल
1920 विटामिन B2 राइबोफ्लेविन/कीलोसिस
1922 विटामिन E टाकाफरोल
1926 विटामिन B12 साइनोकोबालामिन
1929 विटामिन K फिलोक्वीनोल
1931 विटामिन B5 पैन्टाथीनिक
1931 विटामिन B7 बायोटिन
1934 विटामिन B6 पायरीडॉक्सीन
1936 विटामिन B3 निकोटिनैमाइड/नियासिन
1941 विटामिन B9 फोलिक एसिड

विटामिन्स दो प्रकार के होते है.

  1. जल में घुलनशील विटामिन्स
  2. वसा में घुलनशील विटामिन्स

जल में घुलनशील विटामिन्स (water-soluble vitamins)

-
विटामिन 'B', 'C'।

विटामिन बी

Vitamin B1 (Thiamine)

Vitamin B1 का रासायनीक नाम थायमीन है.

Vitamin B1 के कमी से होने वाले रोग=> बेरी-बेरी, ह्रदयघात भी |

प्राप्ती स्त्रोत=> yeast, सुअर का मांस (pork), सूरजमुखी के बीज, भूरा चावल, गोभी(cauliflower), आलू (potatoes), संतरे (oranges), अंडे.

Vitamin B2 (Riboflavin)

Vitamin B2 का रासायनीक नाम राइबोफ्लेविन/कीलोसिस है.

Vitamin B2 के कमी से होने वाले रोग=> मुँह मेँ छाले होना , होटो का कटना.

प्राप्ती स्त्रोत=> केला (bananas), cottage cheese, दूध, दही, मांस, अंडे, मछली, हरी सेम, ताजी कच्चा मटर.

Vitamin B3 (Niacin, niacinamide)

Vitamin B3 का रासायनीक नाम निकोटिनैमाइड/नियासिन है.

Vitamin B3 के कमी से होने वाले रोग=> पेलेग्रा , 4D सिँड्रोम, दस्त, चर्म रोग, मानसिक रोग.

प्राप्ती स्त्रोत=> मूंगफली, चिकन, फिश, सूरजमुखी के बीज, मशरूम, टमाटर (tomatoes), पत्तीदार शाक भाजी, गाजर,

Vitamin B5 (Pantothenic acid)

Vitamin B5 का रासायनीक नाम पैन्टाथीनिक है.
Vitamin B5 के कमी से होने वाले रोग=>बालोँ का सफेद होना
प्राप्ती स्त्रोत=> मशरूम, स्ट्राबेरी, बादाम, दुग्ध उत्पाद,

Vitamin B6 (Pyridoxine)

Vitamin B6 का रासायनीक नाम पायरीडॉक्सीन है.
Vitamin B6 के कमी से होने वाले रोग=> एनीमिया खून की कमी.
प्राप्ती स्त्रोत=>गेंहू, बाजरा, जौ, मक्का, मटर, ग्रीन बीन्स, अखरोट, केले, बंद गोभी, सोया बीन्स, गाजर.
मछली, अंडे, चिकन, मटन
Vitamin B7 / H (Biotin)

Vitamin H का रासायनीक नाम बायोटिन है. जिसे पहले विटामिन एच या कॉनेज़ियम आर के रूप में जाना जाता था.
Vitamin B7 के कमी से होने वाले रोग=> बालोँ का गिरना.
प्राप्ती स्त्रोत=> egg yolk, liver, कुछ सब्जियों में।

Vitamin B9 (Folic acid)

Vitamin B9 का रासायनीक नाम फोलिक एसिड है. रोकथाम के लिए आयरन व फोलिक एसिड की गोलिया दी जाती हैँ.
Vitamin B9 की कमी से होने वाले रोग=> एनिमीया
प्राप्ती स्त्रोत=> पत्तीदार सब्जियां, फलियां, सूरजमुखी के बीज, liver

Vitamin B12 (Cobalamin)

Vitamin B12 का रासायनिक नाम साइनोकोबालामिन. इसमेँ कोबाल्ट धातु पाई जाती हैँ |
इसका संशलेषण बड़ी आंत मेँ पाया जाने वाला जीवाणु E-Coli करता हैँ , मनुष्य व इस जीवाणु मेँ सहजीवी सम्बन्ध होता हैँ.

Vitamin B12 की कमी से होने वाले रोग=> रक्तक्षीणता और धीमी वृद्धि।

प्राप्ती स्त्रोत=>
Veg-
दूध और डेयरी उत्पाद, सोया उत्पाद,

Non-Veg
मछली (fish), shellfish, मांस (meat), अंडे (eggs),

विटामिन सी (Vitamin C) (Ascorbic acid)

Vitamin C का रासायनिक नाम एस्कॉर्बिक है. खट्टे पदार्थो मेँ पाया जाता हैँ. यह विटामिन मूत्र से उत्सर्जित होता है. खाना पकाने से विटामिन सी नष्ट हो जाता है।
Vitamin C की कमी से होने वाले रोग=> स्कर्वी दाँत हिलना, मसूड़ो मेँ खून आना.
प्राप्ती स्त्रोत=> आँवला, नीबू , संतरा , टमाटर , खट्टे पदार्थ.

वसा में घुलनशील विटामिन

-
- विटामिन A, D, E तथा K
वसा में घुलनशील विटामिन(4 fat soluble vitamins)
विटामिन A

Vitamin A (Retinoids)- विटामिन A का रासायनिक नाम रेटिनॉल/कैरोटिन है. इसे antixerophthalmic विटामिन भी कहते है. इस विटामिन की 1909 खोज में हुआ था. विटामिन A को संक्रमणरोधी विटामिन भी कहते हैँ.गाय के दूध मेँ कैरोटीन वर्णक पाया जाता हैँ जिसके कारण दूध का रंग पीला |कैरोटिन(क्च्चा पदार्थ) यकृत मेँ जाता हैँ उसके पश्चात रेटिनॉल बनता हैँ |
सबसे ज्यादा संचित रहने वाला विटामिन A यह यकृत (जिगर या कलेजा) मेँ संचित रहता हैँ |आँख के आसूओँ मेँ लाइसोजाइम एन्जाइम पाया जाता हैँ जो जीवाणुओँ को नष्ट करता हैँ |
कन्जेक्टिवाइटिस रोग आँख से सम्बन्धित है.

कमी से होने वाला रोग=>

इस विटामिन की कमी से मुख्यरूप से रतौँधी रोग होता है. खुरदुरी / शुष्क त्वचा और अन्य रोग चर्म रोग. रात का अंधापन.

प्राप्ति स्त्रोत (Sources)=>
Veg Sources-
गाजर( Carrots), पपीता , पीले फल , गाय का दूध, कद्दू( pumpkin), शकरकंद (sweet potato), हरे पत्ते वाली सब्जियां, खरबूजा(cantaloupe), शिमला मिर्च(bell pepper), Non-veg Sources-

मछली के यकृत तेल से, अंडा(eggs), गाय का मांस(beef),

Vitamin D (Calciferol, 1,25-dihydroxy vitamin D)

इस Vitamin की खोज 1918 में हॉपकिन्स ने किया था. इसका रासायनिक नाम केल्सीफैरॉल (Calciferol) है. Vitamin D का सबसे अच्छा स्त्रोत सूर्य का प्रकाश है. जब हमारे शरीर पर सूर्य का प्रकाश का संपर्क होता है तो ये प्रकाश त्वचा में अवशोषित होकर विटामिन डी का निर्माण करती हैं. यह हड्डियोँ को मजबूत बनाता हैँ. इस विटामिन को हार्मोन कहा जाता हैँ क्योँकि ये हार्मोन की तरह काम करता हैँ. इसे "सन साइन" वि॰ भी कहा जाता है.

विटामिन डी की कमी से होने वाले रोग- सूखा रोग(Rickets)(बच्चों में), तथा आस्टियो मलेशिया (वयस्क में).हड्डियों का कमजोर होना.
प्राप्ति स्त्रोत (Sources)=>
Veg
सूरज की रोशनी (Sunlight), fortified foods, मशरूम, दूध, सोयाबीन
Non-Veg
मछली(Fish), अंडे(eggs), salmon, Mackerel(छोटी समुद्री मछली), Sardines, यकृत तेल, चिकन
Vitamin E (Tocopherol)

विटामिन "ई" का रासायनिक नाम टाकाफरोल (Tocopherol) है. इसे "सौन्दर्य" विटामिन भी कहा जाता हैँ | यह प्रजनन मेँ सहायक हैँ अत: इसे प्रजनन विटामिन भी कहते हैँ.

Vitamin E की कमी से होने वाले रोग- बध्यता (प्रजनन शक्ति),हेमोलिटिक एनीमिया, पेशियाँ कमज़ोर, समय से पहले पैदा हुए बच्चो में विटामिन ई की कमी से खून की कमी पायी जाती है. प्राप्ति स्त्रोत (Sources)=>

हरे पत्ते वाली सब्जियां, गेहूँ, अंकुरित अनाज, वनस्पति तेल, मक्खन, बादाम(almonds), सूरजमुखी के बीज(sunflower seeds), जैतून(Olives), ब्लू बैरीज़, टमाटर(tomatoes)

अण्डे की जर्दी,
Vitamin K फिलोक्वीनोल
Vitamin K का रासायनिक नाम फिलोक्वीनोल है. विटामिन "के" आंत्र में उपस्थित ‘कोलोन’ नामक वैक्टीरिया बनाता है। इसे एंटिहेमरेजिक Vitamin भी कहा जाता हैँ.

Vitamin K की कमी से होने वाले रोग =>हेमरेज (आंतरिक रूधिर स्त्राव).
प्राप्ति स्त्रोत (Sources)=>पनीर, अण्डा, जिगर, टमाटर, ब्रोकोली, हरी बीन्स, हरी मटर, गाजर

आशा है आपको यह "विटामिन्स- इसके प्रकार, महत्व, प्रमुख स्रोत, रोग Types Of Vitamins In Hindi GK" आर्टिकल अच्छा लगा होगा. इस पोस्ट को अपने Facebook, Twitter, Whatsapp में शेयर करे. 

इन्हें भी पढ़े:-

टिप्पणियां

लोकप्रिय पोस्ट